Quotes-And-Sayings-Of-Mirza-Ghalib

Quotes And Sayings Of Mirza Ghalib In Hindi

Quotes And Sayings Of Mirza Ghalib In Hindi

 

Who Was Mirza Ghalib?     

Ghalib was born on December 27, 1797, in Agra. He was a very well-known poet of Persian and Urdu Languages. Mirza Ghalib started writing poetry at the age of 11. He changed his name to GHALIB for writings as his pen name from his original name  Mirza Asadullah Baig Khan. Ghalib was orphaned at an early age. He later moved to Delhi and lived there for the rest of his life. His financial condition was not good. Ghalib married at the very young age of 13 years. He had seven children but none of them survived beyond infancy. So the feel of tragedies can be seen in his work. He died in New Delhi on February 15, 1869.  HERE we are sharing some of his great work, Quotes And Sayings Of Mirza Ghalib.

 

Quotes And Sayings Of Mirza Ghalib In Hindi

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के
 Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya, Warna Ham Bhi  Aadami The Kaam Ke.

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है
Un Ke Dekhe Se Jo  Aa Jati Hai Munh Pe Raunak, Wo Samjhate Hai Ki Bimaar Ka Hal Achchha Hain.

ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं

कभी सबा को, कभी नामाबर को देखते हैं

Ye Ham Jo Hizr Me Deewaar-O-Dar Ko dekhate Hai, Kabhi Saba Ko, Kabhi Namaabar Ko Dekhate Hai.

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है
Har Ek Baat Pe Kahate Ho Tum Ki Tu Kya Hai, Tumhi Kaho Ki Ye Andaaz-E-Guftagu Kya Hain.

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई
Tum N Aaye To kya Sahar N Huyi, Han Magar Chain Se Basar N Huyi, Mera Nala Suna Zamane Ne, Ek Tum Ho Jise Khabar N Huyi.

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना
Bas-KI-Dushwaar Hai Har Kaam Ka Aasaan Hona, Aadami Ko Bhi Mayassar Nahi Insaan Hona.

रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था
Rekhte Ke Tumhi Ustaad Nahi Ho “Galib”, Kahate Hai Agale Zamaane Me Koi Meer Bhi Tha.

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता
Tere Wade Par Jiye Ham, To Yah Jaan, Jhuth Jana, Ki Khushi Se Mar N Jate, Agar Etbaar Hota.

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता
Huyi Muddat Ki “Galib” Mar Gaya Par Yaad Aata Hai, Wo Har Ek Baat Pe Kahata Ki Yun Hota To Kya Hota.

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते
Hatho Ki Lakiron Pe Mat Ja E “Galib”, Nasib Unake Bhi Hote Hai, Jinake Hath Nahi Hote.

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए
Dard Jab Dil Me Ho To Dawa Kijiye, Dil Hi Jab Dard Ho To Kya  Kijiye?

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले
Hazaron Khwahishe Esi Ki Har Khwahish Pe Dam Nikale, Bahut Nikale Mire Armaan Lekin Fir Bhi Kam Nikale.

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते
Kitana Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Me, Punchh Un Parindo Se Jinake Ghar Nahi Hote.

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले
Mohabbat Me Nahi Hai Farq Jeene Aur Marane Ka, Usi Ko Dekh Kar Jeete Hai Jis Kafir Pe Dam Nikale.

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे
Ishq Par Jor Nahi Hain Ye Aatish “Galib”, Ki Lagaaye Naa Lage Bujhaye Na Bujhe.

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है। 
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।।
Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya Hain? Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai.

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नहीं आती
Kaba Kis Muh Se Jaoge “Galib”, Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati.

वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं
कभी हम उनको, कभी अपने घर को देखते हैं
Wo Aye Hamare Ghar Me,Khuda Ki Kudrat He. Kabhi Hum Unko, Kabhi Apne Ghar Ko Dekhte He.

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

Rago Me Dodte Firne Ke Hum Nahi Kayal. Jab Ankh Hi Se Na Tapka To Fir Lahu Kya He.


 

#feetway

Share

Leave a Reply